Internet Archive BookReader

दयानन्द के मूल सिद्धान्त की हानि